Login
http://www.aldaorg.net
Error
  • JUser: :_load: Unable to load user with ID: 44
Category: Cancer
Print

Virtus Health Services Launches O Test in India, a Non-Invasive, Highly Affordable Test for Early Detection of Oral Cancer
O Test with best of class automated screening services expected to significantly reduce oral cancer mortality and morbidity resulting from of 60% of diagnosis only at advanced stages
 
 

Pune February 5, 2014:- Forges alliance with Cancer Aid Society for CSR services

Virtus Health Services India (VHSI) today launched the O-Test, in India, which is a non-invasive, highly affordable early stage detection test for oral cancer. The O Test is supported by Virtus’ highly advanced automated screening software.  This software designed by senior pathologists and applied to the entire process right from case history to medical examination and microscopic slide viewing, offers higher accuracy and speed of results generation. 

The globally widely accepted O Test is expected to significantly reduce the rate of morbidity and mortality from oral cancer, primarily due to 60% of all diagnosis being at late stages of its advancement. 86% of all oral cancer cases reported worldwide are in India. VHSI, a specialist medical technology products and services firm has recently entered India to service the significantly untapped market potential for cutting edge healthcare services supported by world class technology.

Mr. Sunil Ikhe, Operations Director and Country Head, VHSI said, “Virtus Health Services is committed to empowering the Indian population with access to the best and latest global healthcare technologies towards empowering them to make responsible choices for personal health. Given the significant morbidity and mortality associated with advance stage oral cancer, there has been a compelling need to provide doctors with an accurate and easy access diagnostic technique for early detection of oral cancer or even identity those at high risk. The O Test addresses this critical requirement at costs highly affordable and accessible to all sections of society.”

It today also announced its alliance with the Cancer Aid Society to offer corporates the opportunity to join hands with them on taking up the cause of early detection of oral cancer as a CSR initiative.  Mr. O P Berry, Member and Director General, Cancer Aid Society said, “Cancer is the second leading cause of death worldwide. As an NGO committed to cancer control, Cancer Aid Society strongly believes in early detection. We are pleased to lend our support to this initiative and through awareness of the O Test we hope that people are motivated to go get tested at the earliest. We also encourage the corporate community to support this initiative as part of their CSR obligations.”

The O test has already been run on a pilot basis as an internal employee health benefit with some prominent corporates in India such as Edelweiss and Just Dial. In the roll out phase, a total of over 600 employees have been administered the O Test.

The O Test, a screening of the oral cavity works on two principles. The first is a five minute visual examination of Oral Cavity and identification of susceptible areas, if any which is conducted by qualified dental medical professionals. This is followed by the brush test, a non-invasive, painless, bloodless procedure which does not need local anaesthesia. The cells acquired on the brush are transferred to a microscopic slide for staining which is further analysed for cell abnormalities using the PAP SMEAR method. If any legions found suspicious or the cells are detected abnormal, the further tests are advised.

Commenting on the need for early detection in India, Dr. Dinesh Rajput, whose paper on this subject has won the GOLD MEDAL is an Associate Professor, Department of Oral Pathology & Microbiology, Yashwantrao Chavan Memorial Medical & Rural Development Foundation’s Dental College & Hospital said: “At this time over 23% of all recorded cancer deaths in India are from oral cancer. The high mortality rate from oral cancer is due to several factors, but undoubtedly, the most significant is delayed diagnosis.  The survival and cure rate dramatically increase when oral cancer is detected in its pre-cancerous or early disease stages.”

Dr.S.M Inamdar, Consulting Pathologist and Director of Diagno Medical Health Services Private Limited said “I have been associated with O Test from the very first day as I strongly believe that this test is going to be crucial in saving lives. The O Test is immensely beneficial as it would significantly cut down the mortality rates and ensure that patients are afforded a better quality of life with early testing. Globally this test is widely used and I am pleased that this test has now been brought to India.”

Mr. Vikas Sachdeva, CEO, Mutual Funds Edelweiss said, “Employee welfare is a priority for us at Edelweiss. Our partnership with Virtus Health Services India in administering the O Test is yet another sign of our commitment to our employees, who we consider to be our biggest asset.”

Mr. Ganesh Aiyar's Vice President Administration Just Dial said, “As a services provider, our customer experience and therefore company growth is directly related to the wellbeing and satisfaction levels of our employees.  The O Test has been included in our employee health program given the extremely high incidence of oral cancer among Indians, which can be so easily avoided by a five minute early stage disease or risk detection test that can be conducted at the workplace itself with no fuss, at very nominal cost!”

Mr. Ikhe added, “It is imperative for everyone to take their health seriously as early detection can save lives. The early support from corporate India by including the O Test as an essential health initiative for employee health maintenance is commendable and I expect many others will follow suit.”

Apart from the test being available at hospitals and dental clinics, the O Test is available for purchase at chemists across Mumbai in the form of a gift card. The O Test retails for Rs. 850/-. BWI

 
Category: Cancer
Print

Mumbai January 11, 2014: Following is the text of the Prime Minister, Dr. Manmohan Singh’s address at the foundation stone laying ceremony for the National Hadron Beam Facility and Cancer Centre for Women and Children, in Mumbai today: 


“It is a privilege for me to have this opportunity to lay the foundation stone for the National Hadron Beam Facility at the Tata Memorial Centre in Mumbai. This is the first such facility in India and it places India among a select group of countries in the world to offer this advanced treatment method for cancer. 

Our Government attaches great importance to the establishment of this facility and we are pleased that the Department of Atomic Energy and Tata Memorial Centre have been able to quickly translate a vision into a concrete plan of action. We expect this project, costing around Rs. 425 crores and funded entirely by the Government of India through the Department of Atomic Energy, to be completed in less than four years. 

It is not surprising that Tata Memorial Centre should be the institution in India to have taken this very important step forward in cancer treatment. Since its inception more than six decades ago as the pioneer centre for cancer research and treatment in India, this outstanding institution has been associated with virtually every milestone in treatment of cancer in our country. The Centre has been at the forefront of our national efforts to establish new frontiers of medical science and treatment in India. More importantly, its commitment to bringing cancer treatment within the reach of the poorest makes this institution the pride of our nation and a beacon of hope for those afflicted by this disease of cancer. The Centre has truly lived up to its motto of “Service, Research & Education” and I complement all those associated with this unique centre of our country. 

There are many here who are more qualified than I am to speak about the intricacies and impact of Hadron Beam Therapy in the treatment of cancer. I know that most cancer patients have to receive radiation therapy at some point during their treatment. But traditional methods have limitations and also cause damage to the surrounding tissues. I was therefore pleased to note that Hadron Beam Therapy can deliver treatment in a more precise manner, such that damage to healthy tissues is reduced. 

While this technology is new to India, I have little doubt that the Tata Memorial Centre will quickly develop world class capacity in its application. I am gratified to learn that the Centre will also continue the practice of providing free treatment to poor patients. Overall, nearly 1500 patients will benefit from this Facility every year. The project also includes a dedicated Cancer Centre for Women and Children. Just as important, the Facility will enable Tata Memorial Centre to further advance their research and understanding on the application of Hadron Beam Therapy to the treatment of different types of cancer in our country. It will also provide training and education to develop the human resources for the expansion of such facilities in our country. 

I can hardly overemphasize the gravity of the problem of cancer emerging as one of the leading causes of death globally, its incidence in India or the particularly large share of fatalities taking place in developing countries. I do wish to say, however, that the Government of India has made fighting and preventing cancer a top priority in the national health sector. 

This is the third cancer treatment facility for which I am laying the foundation stone in less than two weeks. On the 30th of December, I laid the foundation stone for the Homi Bhabha Cancer Hospital and Research Centre in Chandigarh. This is also being established by the Tata Memorial Centre and it will bring the same standard of treatment that the Centre offers in Mumbai to patients in North India. On 3rd January, I was in Jhajjar in Haryana to lay the foundation stone for the National Cancer Institute, which is being established under the aegis of the All India Institute of Medical Sciences. In addition, we will soon launch the construction of another regional hub of the Tata Memorial Centre in Vishakapatnam, which will serve patients from South India. 

We are also setting up a National Cancer Centre, supported by Regional Cancer Centres and Tertiary Cancer Centres. A National Cancer Grid is being set up to facilitate easy exchange of information about cancer. We are constantly intensifying and expanding our efforts on cancer research and establishing population-based cancer registries. Our effort is to ensure that a patient is able to access the most advanced cancer treatment as close as possible to his or her home, and at an affordable cost. 

Today’s event is yet another demonstration of our Government’s prioritization of the health sector since 2004. This is a special occasion for the people of Maharashtra and the nation at large. I would like to thank the Government of Maharashtra, the Chief Minister, my friend Prithviraj Chavan for providing the requisite land and other facilities for setting up this unique facility, and for its unstinted support for this project of national importance. The State Government of Maharashtra has always been supportive of the activities of the Tata Memorial Centre, and of the Department of the Atomic Energy, which is headquartered in Mumbai, and the Government of India is grateful to the Government of Maharashtra for this support. 

I would like to congratulate the Tata Memorial Center and the Department of Atomic Energy, and I wish them all success in bringing this important project to fruition at the very earliest. 
 
Category: Cancer
Print

Mumbai January 8, 2014: After a successful pilot run in New Delhi, Quest Diagnostics is taking its cancer testing services to 25 centres across the country.

Quest already has collection centres in 25 locations, including Mumbai, Bangalore, Kochi and Kolkata, providing regular testing services but now cancer-specific testing will be extended to these centres, said Mukul Bagga, Managing Director of Quest in India.

Cancer-centric diagnostics have specific requirements, like transporting the sample of bone marrow, for example. The services from Quest will be different both in terms of the proprietary technology and the depth if expertise involved in interpreting the data, Bagga told Business Line.

So, for example, where diagnostic companies collect bone marrow in a heparin tube (heparin keeps blood from clotting), Quest provides a proprietary medium, improving the quality of the final report, he says.

Another service is its advanced digital pathology platform used to exchange medical information and seek the expert opinion from a panel of 600 organ-focused US-based Quest experts.

In fact, according to data reported at the recently held Indian cancer congress — a retrospective review of 500 cancer cases that were referred for an expert opinion revealed that 40 per cent had their original treatment protocols changed after review of those cases by the panel of Quest experts, he said.

The diagnostics tests are priced on par with those offered by other diagnostic companies, but could be up to 30 per cent higher in tests sent to the main lab in the US for in-depth interpretation, Bagga said.

About 80 per cent of the cancer-test, in terms of volumes, is processed locally, while about 20 per cent is sent to the main lab in the US, for insights from experts.

Cancer incidence

Cancer incidence and mortality is on the rise. From 979,786 cases diagnosed in India in 2010, it is projected to touch 1,148,757 cases by 2020, Quest said, citing independent data. Death due to cancer in India was at 556,400 cases in 2010, it added, underlining the need for early detection, prevention and accurate diagnosis and monitoring.

Quest’s cancer services include Papby liquid-based cytology to screen cervical cancer and Leumeta, proprietary plasma-based test for leukaemia.

There are tests to detect haematological or blood cancers using next-generation sequencing, an advanced technique that identifies mutations and variants in an individual’s DNA or genome. One of its tests assesses the ROS1 gene mutation status to help determine a patient’s response to a certain lung cancer therapy. The company also provides testing for breast, cervical, prostate, soft tissue, bone and several other cancers, it added.

Quest Diagnostics India is a wholly owned subsidiary of the US diagnostic information and services company Quest, and it has been in India since 2008. Its main referral lab in India is in Gurgaon, Haryana.Business Line

 
Category: Cancer
Print


Jhijar January 04, 2014:
Following is the text (in Hindi), of Prime Minister, Dr. Manmohan Singh’s address at the foundation stone laying ceremony of the Global Centre for Nuclear Energy Partnership and National Cancer Institute, in Jhajjar, Haryana today:

“आज हमने Global Centre for Nuclear Energy Partnership की स्थापना केलिए पहला कदम उठाया है। इससे हरियाणा को एक ऐसी संस्था मिलने जा रही है जोमहफूज़ और टिकाऊ Nuclear Energy को बढ़ावा देने की दिशा में काम करेगी। इसकेअलावा हमने National Cancer Institute की स्थापना के लिए भी काम शुरू कर दिया है। यह Institute हरियाणा में AIIMS के Campus की स्थापना के एक बड़े project काहिस्सा होगा और देश में कैन्सर की बीमारी से संबंधित खोज और उसके इलाज कीसुविधाओं के लिए एक Centre of Excellence के तौर पर काम करेगा।

ये दोनों projects हमारे देश के लिए बहुत महत्व रखते हैं और मैं हरियाणासरकार को, श्री भूपेन्दर सिंह हुड्डा और श्री दि‍पेन्‍दर सिंह हुड्डा को इन दोनोंसंस्थानों की स्थापना के लिए किए गए प्रयास और इस काम में भारत सरकार को दिएजा रहे सहयोग के लिए बधाई देना चाहता हूं। मैं हरियाणा सरकार और मुख्य मंत्री श्रीभूपेन्दर सिंह हुड्डा जी को ख़ास तौर पर AIIMS के दूसरे Campus के विकास के लिए300 एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूँ। ये projects न सिर्फहमारे देश के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए महत्वपूर्ण होंगे। इनकी स्थापना में हमेंहरियाणा की जनता का पूरा सहयोग मिला है जिसके लिए हम सब आपके आभारी हैं।

जैसे-जैसे हमारे देश की आबादी बढ़ेगी, हमारे देश में शहरीकरण बढ़ेगाऔर हमारी आमदनी भी बढ़ेगी, हमारे देश में बिजली की मांग भी बढ़ेगी। हमें अपनेदेश के आर्थिक विकास के लिए बिजली की सप्लाई को तेजी से बढ़ाना होगा। ऐसाकरके ही हम अपने कारखानों, अपने किसानों के सिंचाई पम्पों और लोगों के घरों मेंरोशनी के लिए बिजली उपलब्ध करा सकेंगे। देश में उपलब्ध बिजली के सभीresources यानि कोयला, पानी, गैस, solar energy और wind energy का इस्तेमाल करनेके साथ-साथ हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि हम प्रदूषण पर काबू पा लेंजिससे हमारे वातावरण को कम से कम नुकसान पहुँचे।

Nuclear energy, बिजली बनाने का एक भरोसेमंद और साफ सुथरा ज़रियाहै। भारत दुनिया के उन कुछ देशों में से एक है, जिन्होंने nuclear power plants लगानेकी technology का विकास कर लिया है और nuclear fuel बनाने की काबिलियत भीहासिल कर ली है। हमारा मकसद है कि आने वाले 10 सालों के अंदर हम 27000मेगावाट से ज्यादा nuclear power बनाने की क्षमता प्राप्त कर लें।

Nuclear power बनाने की अपनी क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ हमारे लिएयह भी जरूरी है कि वह सामग्री जिससे nuclear fuel तैयार होता है महफूज़ रहे औरकभी-भी अपराधियों और आतंकवादियों जैसे गलत लोगों के हाथ न लग पाये। यह भीजरूरी है कि हमारे nuclear power plants हिफाज़त के सबसे अच्छे तरीकों को अपनाएं।

भारत में हमने nuclear power plants और nuclear सामग्री की हिफाज़त केलिए बेहतरीन तरीकों को अपनाया भी है। जापान में 2011 में Fukushima के हादसे केबाद हमने अपने power plants के design और management में सुरक्षा के कई नए उपायबनाये हैं। आज हम यह बात पूरे इत्मीनान से कह सकते हैं कि हमारे safety standardsकी तुलना दुनिया के सबसे अच्छे safety standards से की जा सकती है।

लेकिन हम nuclear power plants और nuclear सामग्री की सुरक्षा और भीमज़बूत करने की कोशिश करते रहेंगे। इससे अपनी energy policy पर हमआत्मविश्वास के साथ अमल करके आगे बढ़ पाएंगे।

इस काम में Global Centre for Nuclear Energy Partnership की एकमहत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। यह पूरी तरह चालू हो जाने पर, ऐसे nuclear systems कीखोज और डिजाइन के लिए काम करेगा जो सुरक्षित और टिकाऊ हों और जिनकागलत लोगों के हाथों में पड़ने का कोई खतरा न हो। यह nuclear energy के क्षेत्र मेंमानव संसाधनों के विकास के मकसद से भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय experts दोनों कोशामिल करके workshops और seminars भी आयोजित करेगा। अंतर्राष्ट्रीय औरभारतीय वैज्ञानिकों को एक साथ लाकर यह centre उनके लिए research और trainingकार्यक्रम आयोजित करेगा और इस तरह से Global Nuclear Energy Partnership कोबढ़ावा देगा। इन सब मकसदों को पूरा करने के लिए हम International Atomic Energy Agency और रूस, फ्रांस और अमेरिका जैसे देशों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

मुझे खुशी है कि इस इलाके में रहने वाले लोगों को इस project से सीधा लाभमिलेगा। इसके लिए जिन लोगों की जमीनें ली गई हैं उन्हें मुआवजे के अलावा 33 सालतक वार्षिक भुगतान मिलता रहेगा। इस तरह एक लंबे वक्त के लिए उन्हें आमदनी काज़रिया उपलब्ध होगा। स्थानीय लोगों के फायदे के लिए इस Centre के आसपास केक्षेत्र में 10 करोड़ रूपये की लागत से कई projects लागू किए जाएंगे। इनमें लड़कियों केलिए एक कॉलेज, विशेष आवश्यकताओं वाले बच्चों के लिए एक स्कूल, Bhindwas Birds Sanctuary का विकास, स्वास्थ्य सुविधाएं, खारे पानी को साफ करने का Projectऔर Computer Training की व्यवस्था भी शामिल हैं।

इसके अलावा स्थानीय नौजवानों के लिए एक विशेष कार्यक्रम भी चलायाजाएगा जिसके ज़रिए उन्हें पानी, ऊर्जा और वातावरण जैसे बुनियादी क्षेत्रों में तकनीकीजानकारी मि‍ल सकेगी।

Department of Atomic Energy ने इस project को लागू करने के लिए कड़ीमेहनत की है जिसके लिए मैं उनकी तारीफ करना चाहूंगा। Project की कामयाबी केलिए मैं अपनी शुभकामनाएं भी देना चाहूंगा।

AIIMS के झज्जर Campus में, जो National Cancer Institute बनाया जाएगावह स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार का सबसे बड़ा अकेला Project होगा। इसेसाढ़े तीन सालों में करीब 2000 करोड़ रुपए की कीमत से लागू किया जाएगा। देश मेंकैन्सर रोग से संबंधित research के लिए यह एक बहुत बड़ा कदम साबित होगा औरउत्तरी भारत में कैन्सर के इलाज में भी महत्वपूर्ण योगदान देगा। National Cancer Institute में 710 beds की सुविधा होगी और कुल मिलाकर 550 doctors और 2200 nurses यहां काम कर पायेंगे।

भारत में कैन्सर, दिल की बीमारियां और diabetes जैसी बीमारियों का बोझतेजी से बढ़ रहा है। इसके मद्देनजर Cancer रोग से संबंधित Research और उसकेइलाज के लिए एक institute की ज़रूरत शायद इससे ज्यादा पहले कभी नहीं रही। मैंअपने साथी श्री गुलाम नबी आज़ाद साहब को इस project को असलियत के इतनाकरीब लाने के लिए बहुत-बहुत मुबारकबाद देता हूं। साथ में, मैं AIIMS को भी इसProject पर मेहनत से काम करने के लिए बधाई देता हूं।

श्री गुलाम नबी आज़ाद के नेतृत्व में स्वास्थ्य के क्षेत्र में कई बड़े projects शुरूकिए गए हैं। यह सब आम आदमी को सीधे तौर पर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने केहमारे commitment का सुबूत हैं। 2005 में राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन शुरू कियागया था जिसने देश के ग्रामीण इलाकों में बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल को नई रफ्तारदी है।

ये दोनों projects बुनियादी तौर पर हमारे देश और हमारी जनता के विकास सेजुड़े हुए हैं। मैं आज आपको यह भरोसा भी दिलाना चाहता हूं कि हमारी सरकार आपऔर आपके बच्चों का भविष्य बेहतर और सुरक्षित बनाने के लिए हर मुमकिनकोशिश करती रहेगी।

इन्हीं शब्दों के साथ, मैं आप सबका शुक्रिया अदा करता हूं और राष्ट्रीय विकासके कामों में सफलता प्राप्त करने के लिए हरियाणा के लोगों को बधाई देता हूं।

 
Category: Cancer
Print

New Delhi December 31, 2013:
Following is the Hindi rendering of the Prime Minister, Dr. Manmohan Singh’s address in Punjabi at the foundation stone laying ceremony of Homi Bhabha Cancer Hospital and Research Centre, at Mullanpur, Mohali, today:


“मुझे फिर से एक बार पंजाब आकर खुशी हो रही है। मेरा इस राज्य से काफी अर्से से निजी तौर पर जुड़ाव रहा है। मैं यहां हमेशा काफी उत्सुकता और खुशी से आता हूं। जब भी यहां आता हूं, मेरे ज़हन में याद ताज़ा हो आती है कि किस तरह इस राज्य ने और यहां के लोगों ने जीवन के हर क्षेत्र में भारत की प्रगति में अपना अहम योगदान दिया है। लगभग पचास साल पहले, पंजाब के मेहनतकश किसानों ने भारत को खाद्यान्न के मामले में आत्मनिर्भर बनने में मदद की थी। अब, यहां के उद्यमी और व्यापारी इस राज्य को नवीनता, विनिर्माण और सेवा क्षेत्र में अग्रणी बना रहे हैं।

आज, यहां मुल्लांपुर में होमी भाभा कैंसर अस्पताल और अनुसंधान केन्द्र का शिलान्यास करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है। इस अस्पताल को टाटा मैमोरियल सेन्टर द्वारा भारत सरकार के परमाणु ऊर्जा विभाग के अंतर्गत तैयार किया जा रहा है। इसकी कुल लागत लगभग 450 करोड़ रुपए है। कैंसर के उपचार के लिए यहां लगभग 200 डॉक्टर और 500 नर्स एवं पैरा-मेडिकल स्टाफ तैनात किये जाएंगे। इस अस्पताल में हर साल कैंसर के लगभग 10,000 नए केस देखे जाएंगे और लगभग 40,000 पुराने केस के लिए उपचार के बाद की सेवाएं प्रदान की जाएंगी। इस अस्पताल में अन्य प्रकार के उपचार, जिसमें रेडिएशन और कैमोथेरेपी शामिल हैं, के अलावा हर साल कैंसर-उपचार के तहत 2500 सर्जरी करने की सुविधा होगी।

मैं इस बात पर ज़ोर देना चाहूंगा कि इस अस्पताल में गरीब मरीज़ों के इलाज की पर्याप्त सुविधा होगी। हम आशा करते हैं कि यह अस्पताल चार वर्ष में तैयार हो जाएगा। इस अस्पताल में कैंसर के इलाज और अनुसंधान के लिए भारत में मिलने वाली सर्वोत्तम सुविधाएं होंगी। इन सुविधाओं का फायदा न केवल पंजाब के सभी हिस्सों से आने वाले लोगों को मिलेगा, बल्कि पूरे उत्तर भारत से आने वाले मरीज़ों को भी मिलेगा।

मैं इस अस्पताल के लिए जरूरी ज़मीन उपलब्ध कराने के लिए पंजाब की राज्य सरकार और मुख्य मंत्री श्री प्रकाश सिंह बादल जी का धन्यवाद करता हूं। मैं, यहां के संसद सदस्य श्री रवनीत सिंह बिट्टू का भी शुक्रिया अदा करना चाहता हूं जिन्होंने इस परियोजना में सक्रिय योगदान दिया है। मेरा मानना है कि एक सुपर-स्पेश्यलिटी कैंसर अस्पताल स्थापित करने के लिए चंडीगढ़ एक बेहतरीन जगह है। यहां हम ऐसे विश्व-स्तरीय oncologists, surgeons और वैज्ञानिकों को आकर्षित कर सकते हैं, जिनकी किसी अत्याधुनिक अनुसंधान और रेफरल सुविधा में बेहद जरूरत होती है। इस क्षेत्र में बेहतरीन संपर्क मार्ग होने के कारण, बाहर से आने वाले मरीज़ों को सुविधा होगी और इलाज के लिए मुंबई से जरूरी रेडियो आइसोटोप्स लाने में सुविधा रहेगी। सबसे अहम बात यह है कि यह अस्पताल अच्छे पोस्ट-ग्रेज्युएट मेडिकल इंस्टीच्यूट्स के नज़दीक है। इस कारण मरीज़ों के कैंसर के इलाज के दौरान उनके अन्य प्रकार के रोगों और थेरेपी के लिए उन पोस्ट-ग्रेज्युएट मेडिकल इंस्टीच्यूट्स की मदद भी ली जा सकेगी।

मुझे यह बताते हुए भी खुशी हो रही है कि हमारी सरकार संगरूर में भी कैंसर के उपचार की सुविधा मुहैया कराने जा रही है। परमाणु ऊर्जा विभाग के अधीन टाटा मेमोरियल सेंटर द्वारा ही यह कार्य किया जा रहा है। इस सिलसिले में, मैं, संगरूर के युवा सांसद श्री विजय इनदर सिंगला की कोशिशों की भी सराहना करना चाहूँगा।

हमारी सरकार पंजाब के लोगों को दुनिया की सबसे बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने के प्रति हमेशा प्रतिबद्ध रही है। इसी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए भारत सरकार भी चंडीगढ़ के पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च की शाखा के रूप में संगरूर में सभी सुविधाओं वाला एक अस्पताल बनाने के लिए वचनबद्ध है। इस अस्पताल में बारह सुपर स्पेशलिटी सेंटर होंगे। जिनमें कैंसर के उपचार के लिए एक specialized सेंटर भी होगा। मैं आपको यकीन दिलाता हूं कि संगरूर के इस एक अतिरिक्त अस्पताल में वे सभी बेहतरीन सुविधाएं होंगी जिन सुविधाओं की वजह से पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट पूरे क्षेत्र में मशहूर हुआ है।

हम यहां कैंसर पंजीकरण, अनुसंधान तथा उपचार की सुविधाएं मुहैया कराने को इतनी अहमियत इसलिए दे रहे हैं क्योंकि पंजाब में कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं और यहां उसके उपचार की पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। न केवल भारत में बल्कि पूरी दुनिया में कैंसर मौत का प्रमुख कारण बनता जा रहा है। पूरी दुनिया में होने वाली मौतों में से लगभग 13 प्रतिशत मौतें कैंसर के कारण होती हैं और पूरी दुनिया में कैंसर के कारण होने वाली मौतों में से 70 प्रतिशत मौंतें विकासशील देशों में होती हैं। भारत में हर साल लगभग 11 लाख कैंसर के नए केस सामने आते हैं। हर साल लगभग नौ लाख मरीजों की मौत इस बीमारी के कारण होती है और यह संख्या बढ़ती ही जा रही है।

हालांकि हम जो प्रयास कर रहे हैं उनसे शायद हम कैंसर को अथवा इससे होने वाली सभी मौतों को पूरी तरह न रोक सकें, मगर हमारी सरकार भारत में कैंसर की घटनाओं को नियंत्रित करने और यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि भारत में कैंसर के हरेक मरीज़ को देश में ही बेहतर और काफी किफायती दरों पर कैंसर का इलाज मिल सके।

हमारी कोशिश है कि कैंसर के मरीज़ों को कैंसर की जांच, उसके उपचार तथा देखभाल की नवीनतम और अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हों। इससे कैंसर का इलाज और बेहतर तरीके से संभव हो सकेगा। हम कैंसर अनुसंधान और जनसंख्या आधारित कैंसर पंजीकरण के अपने प्रयासों में भी तेजी ला रहे हैं और उसका विस्तार कर रहे हैं।

कैंसर से लड़ने की हमारी कार्यनीति के तहत एक राष्ट्रीय कैंसर सेंटर स्थापित किया जाएगा। इस केन्द्र को क्षेत्रीय कैंसर सेंटरों और प्रादेशिक कैंसर सेंटरों से जोड़ा जाएगा। राष्ट्रीय कैंसर नियंत्रण कार्यक्रम के तहत 27 क्षेत्रीय कैंसर सेंटर पहले ही स्थापित किये गए हैं। इसके अलावा, मेडिकल कॉलेजों में oncology प्रभाग बनाने के लिए आर्थिक मदद देकर प्रादेशिक कैंसर सेंटर स्थापित किये गए हैं। 

हमारी सरकार के राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में भी कैंसर की रोकथाम करना, बीमारी का शीघ्र पता लगाना तथा उसका इलाज और चिकित्सा करना शामिल है। राज्य सरकारों के सहयोग से राज्य कैंसर संस्थान स्थापित किए जा रहे हैं। इस नेटवर्क के हिस्से के रूप में पंजाब के अमृतसर स्थित सरकारी मेडिकल कॉलेज में एक राज्य कैंसर संस्थान और होशियारपुर जिला अस्पताल में प्रादेशिक कैंसर उपचार सेंटर स्थापित किए जाएंगे। 

  भारत सरकार की सबसे महत्वपूर्ण राष्ट्रीय प्राथमिकता स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार लाना है। यह समावेशी विकास के स्तंभों में से एक है, जो हमारी नीतियों का केन्द्र बिन्दु रहा है। इसका मतलब यह है कि समाज के सभी तबकों को बेहतर और सस्ती दरों पर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराना, देशभर में प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार लाना, सभी को सस्ती दरों पर दवाइयां उपलब्ध कराना, चिकित्सा उपचार के लिए बुनियादी ढांचा और सुविधाओं का विस्तार करना, जीवन को खतरे में डालने वाली बिमारियों के लिए अनुसंधान और आधुनिक उपचार को बढ़ावा देना और देश के लोगों को स्वास्थ्य देखभाल तथा स्वस्थ जीवन-शैली के प्रति जागरूक करना है। मैं आपसे वादा करता हूं कि हमारी सरकार इस दिशा में कोशिश करती रहेगी। 

आज का दिन पंजाब के लोगों के लिए एक यादगार दिन है और मैं सभी को बधाई देता हूं। मैं टाटा मेमोरियल सेन्टर और परमाणु ऊर्जा विभाग को उनके द्वारा किये जाने वाले नेक कार्यों के लिए हार्दिक धन्यवाद देता हूं और इस परियोजना के शीघ्र और सफल क्रियान्वयन के लिए शुभकामनाएं देता हूं।”
 
Category: Cancer
Print

New Delhi December 26, 2013:
The Union Cabinet today approved the proposal for setting up of National Cancer Institute at a cost of Rs.2035 crore. NCI will be set up in the Jhajjar campus of All India Institute of Medical Sciences (AIIMS) New Delhi located in Badhsa village, Jhajjar, Haryana. The project is estimated to be completed in 45 months. 


This is a landmark step in the arena of cancer research in the country and shall lessen the deficit of tertiary cancer care in the Northern region. Cancer is emerging as a major public health concern in India, where every year 11 lakhs new cases are diagnosed, with a mortality rate of 5.5 lakhs per year. There has been a lag of cancer treatment facilities in India, compared to WHO standard; which requires one radiotherapy machine per million population. India at present has 0.41 machines per million population. Hence, setting up of this institute will herald a new chapter in the government initiative against cancer. 

NCI will operate on the lines of NCI, USA and DKFZ, Germany as a nodal center for indigenous research, promotive, preventive and curative aspects of care and human resource development. This institute is aimed to plan, conduct and coordinate research on cancers which are more specific to India; like tobacco related cancers, cancer of the uterine cervix, gall bladder cancer and liver cancers. The focus will be on understanding, analyzing the cause and genesis of the above cancers. This will further translate the knowledge gained to develop feasible strategies to improve cancer care services by improvement in detection, diagnosis, treatment and quality of life of patients. 

The proposed institute will broadly have clinical division, research divisions, and disease management groups (DMGs). These DMGs will go in to the details of all issues pertaining to management of various cancers, site wise, besides other facilities. NCI will have 710 beds for different facilities viz. Surgical Oncology, Radiation Oncology, Medical Oncology, Anesthesia and palliative care, Nuclear Medicine etc. It will have a Tissue Repository which is the first of its kind in India. 

HSCC (India) Ltd, a public sector enterprise under the administrative control of the Health & Family Welfare Ministry has been appointed as Project Consultant by AIIMS New Delhi. The Project Consultant is responsible for concept, detailed design & engineering, contracting, project management and medical equipment procurement, installations and commissioning. CCI Newswire
 
Email address:


Prev Next
Lenskart
MedLife
HealthKart
"ACCURA" MODEL ACT -III High Speed Double Rotary Tablet Presses
Pharmaceutical Labeling Equipment
The Power Times.in
The SME Times
 The Pharma Times News Portal
The Hotel Times
  • 1
  • 2
Prev Next
Omron Blood Pressure Monitor, HEM-7113
Automatic Capsule Filling Machine (PF-150)
Gelusil liquid antacid - Pfizer’s
The Varilux 3.0 range lenses - Essilor
Blossom Kochhar Aroma Magic Anti Pigmentation Serum
 The Property Times